कार्यक्रम एवं आयोजन

Advancing Circular Economy and Sustainable Practices in Aluminium and Cement Industries

Jawaharlal Nehru Aluminium Research Development and Design Centre (JNARDDC), Nagpur, in collaboration with the Bureau of Energy Efficiency, New Delhi (BEE), hosted a pivotal workshop on May 3rd, 2024. The event focused on fostering a circular economy and enhancing resource efficiency within the aluminum and cement sectors, leveraging the utilization of spent pot-lining (SPL) and other waste products generated from aluminum production. Distinguished stakeholders from the aluminum and cement industries, including representatives from the Global Cement and Concrete Association (GCCA), National Council for Cement and Building Materials (NCCBM), and various Pollution Control Boards, gathered to witness a live demonstration of the "SPL Detoxification and Material Recovery Unit" at the JNARDDC laboratory.
The showcased process successfully addressed the challenge of leachable cyanide in 1st cut SPL through innovative heat treatment techniques. Additionally, the workshop highlighted methodologies for extracting leachable fluoride and sodium, recycling leachate to enhance sodium/caustic concentration, and employing lime treatment to remove fluoride, thus improving the caustic concentration of the final liquor. Mr. Sunil Khandare, Director of BEE, expressed enthusiasm for scaling up the process and establishing a pilot plant near a major smelter in Odisha, with technical support from JNARDDC. Dr. Anupam Agnihotri, Director of JNARDDC, further discussed the potential for treating 2nd cut SPL, emphasizing the center's commitment to sustainable solutions. In-depth discussions on environmental approval procedures with representatives from the Central Pollution Control Board (CPCB) and Odisha State Pollution Control Board were held, ensuring regulatory compliance and environmental sustainability.
Participants, including industry leaders from BEE, IDAM Infra, Hindalco, Vedanta Limited, Ultratech Cement, My Homes Cement, GCCA, NCCBM, Dalmia Cement Bharat, and Prism Johnson, engaged in a constructive roundtable discussion. The consensus emerged strongly in favor of adopting the showcased technology to promote circular economy principles through SPL waste utilization. The workshop marks a significant milestone in advancing environmental stewardship and sustainable practices within the aluminum and cement industries, signaling a collective commitment towards a greener and more efficient future.

JNARDDC Celebrates 35th Foundation Day on 16th April 2024 at JNARDDC, Nagpur

Jawaharlal Nehru Aluminium Research Development & Design Centre (JNARDDC), Nagpur, a revered institution known for its pioneering work in the field of aluminum research and development, proudly commemorates a significant milestone in its journey—the 35th Foundation Day on April 16, 2024. Established under the auspices of the Ministry of Mines, JNARDDC stands as a beacon of excellence, driving innovation and advancement in the aluminum industry. With three and a half decades of dedication to research, development, and design, the Center has consistently pushed the boundaries of knowledge and technology, contributing immensely to the growth and sustainability of the mining and metallurgy sectors. As it celebrates this momentous occasion, JNARDDC reaffirms its commitment to excellence, poised to embark on a new chapter of discovery and innovation in service to the nation. Esteemed dignitaries, including Shri Indra Dev Narayan, CMD of MECL, and Shri Pankaj Kumar, General Manager of QC at SECL, graced the occasion as Chief Guest and Guest of Honour, respectively, adding an aura of distinction to the event. Dr. Anupam Agnihotri, Director of JNARDDC, eloquently showcased the center’s illustrious journey of achievement spanning over the past 34 years, emphasizing its evolving role in fostering innovation and entrepreneurship, particularly through initiatives like the S&T-PRIMSM program of the Ministry of Mines. Shri Narayan, acknowledging the rich legacy of the Center, expressed optimism for its promising future, while Mr. Kumar highlighted JNARDDC’s preeminent position as the top-performing laboratory for third-party referee coal samples. With the impending surge in workload due to the ambitious targets set by Coal India for the current fiscal year, JNARDDC stands poised to meet and exceed expectations, reaffirming its commitment to excellence and service to the nation.
An enthralling session titled "Mining, Mineral & Recycling Startup Bootcamp: Unveiling the Essence of Entrepreneurship" provided a platform for in-depth exploration into the core principles of startups and entrepreneurship. This captivating event showcased insights and success stories from esteemed experts and visionary entrepreneurs from across the nation, inspiring a new wave of innovation and enterprise. Additionally, a significant milestone was achieved with the signing of a Memorandum of Understanding (MOU) with the Aluminium Extrusion Manufacturers Association of India (ALEMAI), laying the foundation for collaborative research and development endeavors aimed at driving progress and innovation in the field. The distinguished presenters hailed from diverse corners of the nation, each bringing their unique expertise and insights to the forefront. Among them were Shri Ashwani Kumar Pandey of Cellark Powertech Pvt. Ltd., Cuttack; Shri Ashutosh Kumar, representing Caliche Pvt. Ltd. from Shillong; Dr. Suhas Buddhe, CMD of Biocare India Pvt. Ltd., affiliated with IIM Nagpur; Dr. Sunil Bhat, from the ISRO Space Technology Incubation Centre at VNIT Nagpur; and Brabasuthan Murugesan, representing the Sathyabama Incubation Centre, Chennai. Additionally, the event saw the participation of Shri Ankur Agrawal and Shri Jitendra Chopra from the Aluminium Extrusion Manufacturers Association of India (ALEMAI), Ahmedabad, further enriching the discussions with their invaluable perspectives.
Recognizing excellence in innovation, technical awards were bestowed upon deserving individuals for their outstanding contributions to patents and projects. The esteemed awardees included Mr. R N Chouhan, Dr. U Singh, Dr. P G Bhukte, Dr. Suchita Rai, and Dr. Md Najar, whose exemplary work continues to drive progress in their respective fields. In a moment of acknowledgment and appreciation, Mr. Nitin Warhadpande was honored with the prestigious "Employee of the Year 2023-24" award, recognizing his dedication and exemplary service to the Center. The seamless orchestration of the Center's presentation and technical session was expertly conducted by Shri Immanuel Raju, Jr. Scientist, ensuring a cohesive and insightful experience for all participants. Mrs. R Vishakha, Sr. Admin Officer, skillfully guided the proceedings as the program's compere, lending her charm and professionalism to the event. Finally, a heartfelt vote of thanks was extended by Mr. MT Nimje, HoD (Al Electrolysis), expressing gratitude to all participants and organizers for their contributions to the success of the event.

JNARDDC inks an MOU with VNIT, Nagpur (5th March 2024)

Jawaharlal Nehru Aluminium Research Development & Design Centre (JNARDDC), Nagpur and Visvesvaraya National Institute of Technology Nagpur enter into Memorandum of Understanding for technical cooperation in the field of scientific research and development. JNARDDC a Centre of excellence of Ministry of Mines has been recently nominated as the implementing agency under PRISM scheme for promoting Startups and MSME and VNIT as an Academic institute of national importance along with all other NITs is shaping the future of the youth of India. This MOU will pave the way for active interaction of students, faculties and researcher to promote scientific and technological advancements in the field of mineral and metal sector including recycling, circular economy, critical minerals etc. The agreement was signed by Dr. Anupam Agnihotri, Director, JNARDDC, and Dr Dr. Pramod M. Padole, Director VNIT in presence of the HoDs of both institutions.

Promoting Startups & MSMEs (29th Feb 2024)

Shri Pralhad Joshi, Hon’ble Union Minister of Coal, Mines & Parliamentary Affairs in presence of Shri Raosaheb Patil Danve, Hon’ble Minister of State for Coal, Mines and Railways handed over the letters of financial grants to selected 5 start-ups working in the Mining sector on 29th Feb 2024 at Pragati Vihar, New Delhi. (1) Ashvini Rare Earth Private Limited, Pune (2) Caliche Private Limited, Shillong (3) Cellark Powertech Private Limited, Bhubaneswar (4) Ln Indtech Services Private Limited, Bhubaneswar & (5) Saru Smelting Private Limited, Meerut. For the first time, S&T(Mines) funding was extended towards start-ups and MSMEs with JNARDDC, Nagpur as the implementing agency in presence of Shri V L Kantha Rao, Secretary (Mines) & Chairman of Apex Committee And Dr Anupam Agnihotri, Director, JNARDDC Nagpur & Chairman, TEC.

National Science Day (28th Feb 2024)

Dr Anupam Agnihotri, Director, JNARDDC was invited as the Chief Guest by both Raman Science Centre and RTMNU, Nagpur University on the occasion of National Science Day which is celebrated to mark the discovery of the Raman effect by Indian Nobel Laureate and physicist Sir C. V. Raman. He encouraged the young students to pursue science as their career for making their invaluable contribution in the field of scientific research and innovations for the benefit of mankind.

IASC-2024 (22-24 Feb 2024)

The International Analytical Science Congress 2024, IASC-2024 organized by ISAS and JNARDDC during 22-24 Feb 2024 was inaugurated in VNIT Auditorium by Chief Guest Shri Paradip Mukherjee, CEO, BRIT and Guest of Honour Dr. B. Sarvanan, Director AMD in presence of Dr Raghav Saran, President of ISAS, Dr. A Agnihotri, Director JNARDDC, Prof P M Padole, Director, VNIT and Dr. Rajesh S. Pande, Principal RCOEM. The co-organizers are VNIT, RCOEM, ISRA, BARC, NEERI and TIFR. Scientist and researcher from all over India and international participants from Oman, Singapore etc participated in the interactive discussions covering modern analytical techniques in agriculture, space technology, pesticide and allied, food, food adulteration, geological materials, metallurgy, mining, mineral processing, petroleum refining, chemical and petrochemicals, pharmaceuticals and fine chemicals, forensics, bio-technology, nanotechnology, space technology, miniaturization coupled with automation, robotics and Al. A plethora of awards were given under various categories to motivate women and other young and veteran scientists. Dr Anupam Agnihotri was awarded the prestigious ISAS - Dr Raja Ramanna Award 2023 and Dr U Singh, HoD (Analytical) from JNARDDC was awarded the ISAS Analytical Scientist for the year 2023. Detail awardee list is available on www.jnarddc.gov.in.

Visit of Ex MP, Shri Kirit Somaiya to JNARDDC on 30th January, 2024

Shri Kirit Somaiya a two time Member of Parliament of Mumbai NE and Vice President of BJP visited JNARDDC and interacted with Director, JNARDDC on various issues including sustainable development in metal sector. He also undertook a plantation program.

Global Conference on Battery Recycling and Critical Minerals at Seoul, South Korea during 30th November to 1st December, 2023

Dr. Agnihotri, Director JNARDDC was deputed by the Ministry of Mines for attending the Global Conference on Battery Recycling and Critical Minerals organized by the Ministry of Foreign Affairs, Republic of Korea at Seoul, South Korea during 30th November to 1st December, 2023. It was followed by an industrial visit. The event provided a great opportunity to share information on the global market status, technologies and various countries policies regarding battery recycling and critical minerals.

11th International IBAAS-2023 Conference & Exhibition; International Bauxite, Alumina and Aluminium Society, Nagpur 04-06 Dec, 2023

The11th IBAAS was organized by IBAAS (International Bauxite, Alumina and Aluminium Society) in association with during December 4 - 6, 2023 at Chitnavis Centre, Nagpur, India. This was followed by a post conference visit to the HINDALCO’s aluminium downstream facility of Mouda, near Nagpur on December 7, 2023. The theme of the IBAAS-2023 conference was “Latest Technological Developments in Alumina & Aluminium Production”. This Conference covered the complete value chain of aluminium industry from bauxite evaluation / beneficiation to aluminium downstream products in three days of interactive meet. The conference had series of technical presentations by leading Indian and the foreign experts. About 210 delegates from 95 companies / organizations from all over the world have participated. The experts were mainly arrived from India, Denmark, France, Germany, Russia, Switzerland, Sierra Leone and the USA. The conference was inaugurated by Mr. S. Kanakanand, President & Head Manufacturing Centre for Excellence, HINDALCO along with Director JNARDDC, Dr. Anupam Agnihotri, Mr. Yves Ocello, a leading alumina expert of France, and Dr. Amit Chatterjee, Chief Research and Development Officer, VEDANTA. The inaugural function was conducted by Dr. M.K. Roy, Secretary IBAAS and Dr. Ashok Nandi, Convener of the Conference, highlighted the 2 journey, growth and contribution of IBAAS to Aluminium industry. Dr Priyanka Nayar, Scientist of JNARDDC was awarded the first prize for the paper “Preparation of 2-Propanol Aluminium Salt (AIP) as an Intermediate for 4N pure alumina without employing a catalyst”

23rd PERC Meeting (11th Dec 2023)

The 23rd meeting of the Project Evaluation and Review Committee (PERC) was held under the chairpersonship of Mrs. Farida M. Naik, Joint Secretary, Ministry of Mines on 11th December, 2023 at JNARDDC, Nagpur to consider the project proposals received through SATYABHAMA Portal. At the outset, the Chairperson welcomed the participants and on behalf of Ministry of Mines and PERC offered condolences to Late Shri T. C. Rao who was a member of the PERC. A two-minute silence was also observed by the members before start of the Meeting. Out of the 82 project proposals received online the screening committee shortlisted 45 project proposals for consideration of PERC. The thrust areas were realigned by the Ministry to focus on new areas such as recycling, critical minerals and REE. After detailed evaluation the PERC recommended 10 proposals for approval to SSAG.

Vendor Meet OMC (12.12.2023)

Incorporated in the year 1956, Odisha Mining Corporation Limited (OMC) has been working with a prime objective of harnessing the mineral wealth through exploration and extraction. OMC has come a long way since its inception and today it stands as one of the largest mining companies in India. With a view to interact with business partners and stakeholder of business and address their concerns & queries OMC organized a mega OMC Business Partners Meet -2023 on 12th Dec 2023 at Bhubaneshwar. Director, JNARDDC and Sr Admin Officer participated in the meet and discussed various avenues for providing sample analysis services to OMC. An long term MOU was also signed with OMC for Rs. 5.12 crores for sample analysis.

हिंदी सलाहकर समिति की बैठक (13.12.2023)

खान मंत्रालय की हिंदी सलाहकार समिति की बैठक 13.12.2023 को संसद भवन, नई दिल्ली में माननीय खान मंत्री, श्री प्रल्हाद जोशी जी की अध्यक्षता में आयोजित की गयी। प्रारंभ में श्री संजय लोहिया, अपर सचिव (खान) ने समिति की भूमिका और कार्य के बारे में बताया और राजभाषा विभाग द्वारा निर्धारित ल्क्षोयों के संदर्भ में राजभाषा हिंदी के प्रगामी प्रयोग को बढ़ाने के लिए मंत्रालय द्वारा किए जा रहे प्रयासों पर प्रकाश डाला । हिंदी सलाहकार समिति के निम्नलिखित सदस्य सरकारी कामकाज में हिंदी के प्रयोग को बेहतर बनाने के लिए विभिन्न सुझाव दिये। श्री किशन लाल पंवार, संसद सदस्य (राज्य सभा), डॉ मनोज राजोरिया संसद सदस्य (लोक सभा), श्री गुहाराम अजगल्ले, संसद सदस्य (लोक सभा), श्री नारायण बाबुराव मोरे (सदस्य), डॉ सीताराम के पंवार (सदस्य), श्री रणजीत प्रसाद (सदस्य), डॉ मल्लिकार्जुन एन (सदस्य), डॉ गुणमाला खिमेसरा (सदस्य), प्रो हजारीमयुम सुबादानी देवी (सदस्य). हिंदी सलाहकार समिति की बैठक में संस्था के निदेशक महोदय तथा वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे.

41वां आईसीएसओबीए-2023 सम्मेलन

एनएआरडीडीसी के निदेशक और वैज्ञानिकों ने 05-09 नवंबर 2023 के दौरान दुबई, संयुक्त अरब अमीरात में बॉक्साइट, एल्यूमिना और एल्युमीनियम के अध्ययन के लिए अंतर्राष्ट्रीय समिति द्वारा आयोजित 41वें आईसीएसओबीए-2023 सम्मेलन में भाग लिया। निदेशक डॉ. ए. अग्निहोत्री ने सर्कुलर इकोनॉमी के माध्यम से भारतीय एल्युमीनियम क्षेत्र की स्थिरता विषय पर आमंत्रित व्याख्यान दिया। डॉ. यू सिंह, वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक ने "बारीक अपशिष्ट एल्युमीनियम मैल का उपयोग करके हाइड्रोजन का उत्पादन: अगली पीढ़ी के ईंधन का द्वितीयक स्रोत" विषय पर तकनीकी पेपर प्रस्तुत किया और डॉ. पीजी भुक्ते, प्रधान वैज्ञानिक ने "फेरुगिनस बॉक्साइट से कैलक्लाइंड बॉक्साइट के विकास के लिए एक प्रक्रिया" विषय पर तकनीकी पेपर प्रस्तुत किया। ”।

राष्ट्रीय एकता सप्ताह : 25-31 Oct, 2023

"मेरी माटी मेरा देश" अभियान के हिस्से के रूप में 25 से 31 अक्टूबर, 2023 तक राष्ट्रीय एकता सप्ताह मनाया गया, जो भारत की स्वतंत्रता की 77वीं वर्षगांठ मनाने का एक अनूठा और अभिनव तरीका था। 27 अक्टूबर 2023 को जेएनएआरडीडीसी के निदेशक डॉ. ए अग्निहोत्री, समूह प्रमुख डॉ. ईश्वर दास, एनआरएससी-इसरो, हैदराबाद की सुश्री स्वाति सिंह, एमेरिटस वैज्ञानिक डॉ. ए.के. नंदी, एमआरएसएसी, नागपुर के डॉ. अजय देशपांडे और डॉ. विवेक काले के साथ। श्री एस दास, ओआरएसएसी, भुवनेश्वर, श्री आर अनंत कुमार, सहायक उपाध्यक्ष, स्टरलाइट पावर ट्रांसमिशन लिमिटेड और जेएनएआरडीडीसी के लगभग 65 कर्मचारियों और कर्मचारियों ने राष्ट्रीय एकता सप्ताह में "मेरी माटी मेरा देश" कार्यक्रम के तहत शपथ ली। यह अपने ऐतिहासिक महत्व के मूल स्थानों की मिट्टी संस्कृति मंत्रालय को भेजने का एक राष्ट्रव्यापी अभियान है। 30 अक्टूबर 2023 को कर्मचारियों ने “भ्रष्टाचार का विरोध करें; राष्ट्र के प्रति समर्पित रहें” शपथ ली। भारत के लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की 148वीं जयंती के उपलक्ष्य में 31 अक्टूबर, 2023 को एक समापन कार्यक्रम के रूप में, जेएनएआरडीडीसी के निदेशक डॉ. अनुपम अग्निहोत्री ने अंग्रेजी और हिंदी में एकता शपथ दिलाई। इसके बाद उन्होंने जेएनएआरडीडीसी तकनीकी परिसर के गेट नंबर 1 से 3 किमी की दौड़ को हरी झंडी दिखाई, जिसमें लगभग 85 कर्मचारियों और बाहरी संविदा कर्मचारियों की उत्साही भागीदारी देखी गई।

सचिव (खान) ने 21 अक्टूबर 2023 को जेएनएआरडीडीसी का दौरा किया

श्री वी एल कांथा राव, आईएएस, सचिव (खान) ने 21.10.23 को जेएनएआरडीडीसी की गतिविधियों की समीक्षा की। उन्होंने 3 नई प्रयोगशाला सुविधाओं (कीमती धातुओं के लिए अग्नि परख प्रयोगशाला, डाउनस्ट्रीम लैब के माइक्रोस्कोप और माइक्रोहार्डनेस परीक्षक) का उद्घाटन किया। उन्होंने पौधारोपण कार्यक्रम में भी हिस्सा लिया. उन्होंने नवोन्वेषी विचारों को बढ़ावा देने के लिए जेएनएआरडीडीसी द्वारा शीघ्र ही एक इन्क्यूबेशन और स्टार्टअप कार्य योजना लाने की आशा व्यक्त की।

पद्म श्री और पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित डॉ वी के सारस्वत का दौरा

पद्म श्री और पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित, डीआरडीओ के पूर्व महानिदेशक और रक्षा मंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार डॉ वी के सारस्वत ने 4.9.23 को नीति आयोग परियोजना 'लाल मिट्टी के समग्र उपयोग के लिए प्रौद्योगिकी विकास' पर जेएनएआरडीडीसी में 5वीं संयुक्त संचालन समिति की बैठक की अध्यक्षता की। टास्क फोर्स में डॉ. ए अग्निहोत्री, निदेशक, जेएनएआरडीडीसी (मेजबान) और नीति आयोग, एल्युमीनियम उद्योग (हिंडाल्को, वेदांता, नाल्को), सीएसआईआर लैब्स (एनआईएमएल, आईएमएमटी) और अन्य अनुसंधान एवं विकास संस्थानों जैसे बीएआरसी आदि के लगभग 18 सदस्य शामिल हैं। एनएमएल के डॉ. संजय कुमार ने पिछले 2 वर्षों के दौरान परियोजना की प्रगति प्रस्तुत की। डॉ. ए अगिनहोत्री ने कहा कि खान मंत्रालय ने हाल ही में महत्वपूर्ण और दुर्लभ पृथ्वी खनिजों पर अधिक ध्यान केंद्रित करके विज्ञान और प्रौद्योगिकी, अनुसंधान एवं विकास कार्यक्रम के दिशानिर्देशों को संशोधित किया है।

पीईआरसी की थ्रस्ट एरिया मीटिंग : 7th June 2023

पीईआरसी (परियोजना मूल्यांकन और समीक्षा समिति) के सदस्यों और एसएसएजी के अन्य विशेषज्ञों ने 7 जून 2023 को जेएनएआरडीडीसी में आयोजित बैठक के दौरान खान मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री यू सी जोशी की अध्यक्षता में विज्ञान के मौजूदा महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर चर्चा की। एवं प्रौद्योगिकी अनुसंधान कार्यक्रम योजना। सभी सदस्यों ने तकनीकी क्षेत्रों में नवीनतम विकास को शामिल करने और एस एंड टी अनुसंधान कार्यक्रम को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए महत्वपूर्ण क्षेत्रों को फिर से परिभाषित करने के उद्देश्य से अपने सुझाव दिए। मौलिक अनुसंधान से समयबद्ध डिलिवरेबल्स के साथ उद्योग उन्मुख परियोजनाओं पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता थी ताकि बड़े पैमाने पर अंतिम उपयोगकर्ता और समाज के लाभ के लिए अनुसंधान एवं विकास आउटपुट को बढ़ाया और व्यावसायीकरण किया जा सके।

विश्व पर्यावरण दिवस: 5 जून 2023

लाइफ, जिसका अर्थ है 'पर्यावरण के लिए लाइफ स्टाइल'। यह पर्यावरण के प्रति जागरूक जीवनशैली की दिशा में एक जन आंदोलन है। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर, जेएनएआरडीडीसी ने सभी कर्मचारियों द्वारा एक्सट्रूज़न प्रेस क्षेत्र के पास एक सामूहिक क्लस्टर वृक्षारोपण कार्यक्रम चलाया। इसके बाद फूड एनर्जी वॉटर नेक्सस विषय पर एनईईआरआई के डॉ. पुजारी का व्याख्यान हुआ। सभी कर्मचारियों ने मिशन लाइफ पर ऑनलाइन प्रतिज्ञा ली और पर्यावरण संरक्षण के प्रति प्रतिबद्धता के रूप में अपने ई-प्रमाणपत्र साझा किए।

खान मंत्रालय के अधिकारियों का एक्सपोजर विजिट : May 2023

खान मंत्रालय में कार्यालय का काम संभालने वाले अधिकारियों की क्षमता में मूल्य जोड़ने की दृष्टि से 1 मई 2023 को सचिव (खान) और अन्य अधिकारियों के बीच एक बातचीत आयोजित की गई थी। इसके बाद यह निर्णय लिया गया कि सभी एएसओ, एसओ, कानूनी सहायक, सलाहकार और तकनीकी जनशक्ति जेएनएआरडीडीसी, जीएसआई और एमओआईएल की गुमगांव खदानों का दौरा करेंगे। श्री विवेक भारद्वाज, आईएएस, सचिव (खान) की यह नेक पहल सभी कामकाजी हाथों को खान मंत्रालय के वास्तविक कार्यालय स्थलों, खदानें का दौरा करने और प्रयोगशालाओं का ऑनसाइट अनुभव प्राप्त करके वार्षिक क्षमता निर्माण योजना (एसीबीपी) को बढ़ाने का अवसर प्रदान करेगी। 10 अधिकारियों के तीन बैचों ने 10, 17 और 24 मई 2023 के दौरान दौरा पूरा किया।

स्थापना दिवस April 2023

जेएनएआरडीडीसी ने 21 अप्रैल 2023 को अपना 34वां स्थापना दिवस मनाया। इस कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य अतिथि श्री अजीत कुमार सक्सेना, सीएमडी, एमओआईएल लिमिटेड और डॉ. अनुपम अग्निहोत्री, निदेशक, जेएनएआरडीडीसी ने किया। इस्पात क्षेत्र में व्यापक अनुभव वाले श्री सक्सेना ने पिछले 33 वर्षों में अपनी उपलब्धियों और संस्थान द्वारा सरकारी नीतियों में बदलावों को अपनाने के कुशल तरीके के लिए जेएनएआरडीडीसी की सराहना की। श्री एमटी निमजे, डॉ. उपेन्द्र सिंह, डॉ. एमडी नजर, डॉ. सुचिता राय और डॉ. पीजी भुक्ते को पेटेंट और प्रकाशन में उनकी तकनीकी उपलब्धियों के लिए निदेशक, जेएनएआरडीडीसी द्वारा सम्मानित किया गया। श्रीमती आर विशाखा, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी को 2022-23 के लिए वर्ष के कर्मचारी का पुरस्कार दिया गया।

पैरा साइकिलिस्ट (मैराथन) कश्मीर से कन्याकुमारी : 20th March 2023

आजादी का अमृत महोत्सव के तहत जेएनएआरडीडीसी द्वारा किए गए पिछले साइकलिंग कार्यक्रमों को जारी रखते हुए, केंद्र ने उन साइकिल चालकों को सम्मानित किया जिन्होंने इंडियन ऑयल द्वारा पूरे भारत में के-के (कश्मीर से कन्याकुमारी) रेस को सफलतापूर्वक पूरा किया। इच्छुक प्रतिभागियों ने 12 दिनों से भी कम समय में 3651 किलोमीटर की दौड़ पूरी की, जिसमें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध साइकिल चालक डॉ. अमित समर्थ भी शामिल थे।

भारतीय विज्ञान कांग्रेस 2023 (आईएससी), नागपुर का 108वां सत्र : Jan 2023

भारतीय विज्ञान कांग्रेस 2023 (आईएससी) के 108वें सत्र की मेजबानी नागपुर विश्वविद्यालय ने अपने अमरावती रोड परिसर में की थी। इस वर्ष के आईएससी का मुख्य विषय "महिला सशक्तिकरण के साथ सतत विकास के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी" है। जेएनएआरडीडीसी ने विभिन्न नवीन अनुसंधान एवं विकास उत्पादों और प्रक्रियाओं के साथ अपना स्टॉल प्रदर्शित किया है। डॉ. जितेंद्र सिंह, माननीय केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री और श्री देवेन्द्र फड़नवीस, महाराष्ट्र के माननीय उपमुख्यमंत्री, अन्य शीर्ष अधिकारियों के साथ जेएनएआरडीडीसी स्टॉल का दौरा किया और वैज्ञानिकों और कर्मचारियों के साथ बातचीत की।

संयुक्त सचिव (खान) श्री यू सी जोशी का दौरा : 19th Jan 2023

1989-आईआरटीएस बैच के अधिकारी श्री उपेन्द्र सी जोशी ने 19 जनवरी 2023 को जेएनएआरडीडीसी की अपनी पहली यात्रा की। खान मंत्रालय में संयुक्त सचिव के रूप में शामिल होने से पहले उन्होंने डीआरएम, कोटा, डब्ल्यूसीआर आदि सहित कई प्रमुख विभागों का कार्यभार संभाला था। उनके कुशल नेतृत्व में, खान मंत्रालय सर्कुलर इकोनॉमी, ईपीआर, संसाधन दक्षता आदि से संबंधित कई प्रमुख पहलों को उपयोगी दिशा प्रदान करने में सक्षम रहा है। लैब दौरे के दौरान उन्होंने टीजीए का उद्घाटन किया और वैज्ञानिकों और कर्मचारियों के साथ बातचीत की। वह अलौह क्षेत्र में महत्वपूर्ण बदलाव लाने में उनके तकनीकी योगदान के लिए तत्पर हैं। उन्होंने वृक्षारोपण कार्यक्रम में भी भाग लिया।

वार्षिक खेल आयोजन/ : 2022

दिसंबर 2022 से शुरू हुए वार्षिक खेल आयोजन जनवरी 2023 में समाप्त हुए। प्रबंधन का मानना है कि एक फिट शरीर एक फिट दिमाग का घर है। अधिकांश कर्मचारियों और कर्मचारियों ने महीने भर चली विभिन्न खेल गतिविधियों में भाग लिया और निम्नलिखित विजेताओं की जेएनएआरडीडीसी के निदेशक और प्रबंधन द्वारा सराहना की गई। टेबल टेनिस युगल: के जे कुलकर्णी और पीयूष क्षीरसौत बैडमिंटन डबल्स: पापाराव मोदी और के किशोर कैरम एकल: वी पी नाइक कैरम डबल्स: ए अग्निहोत्री और के रामटेके जेपीएल क्रिकेट: येलो टाइगर्स (आर श्रीनिवासन)

खान मंत्रालय के सचिव 6 दिसंबर 2022 को जेएनएआरडीडीसी का दौरा करेंगे

भारत सरकार के खान मंत्रालय के सचिव श्री विवेक भारद्वाज का 6 दिसंबर 2022 को जेएनएआरडीडीसी नागपुर की उनकी पहली यात्रा पर निदेशक, जेएनएआरडीडीसी ने सभी कर्मियों के साथ गर्मजोशी से स्वागत किया। श्री भारद्वाज ने तीन नई प्रयोगशाला सुविधाओं का उद्घाटन किया (i) ) कार्बन सल्फर विश्लेषक, प्रत्यक्ष पारा विश्लेषक और टीसीएलपी (ii) एल्यूमीनियम और एल्यूमीनियम मिश्र धातु के विश्लेषण के लिए संदर्भ सामग्री और (iii) कोयला फ्लाई ऐश से AlF3 और सिलिका (SiO2) की वसूली के लिए यूनिट से सुसज्जित जियो-एनालिटिकल लैब। उन्होंने वृक्षारोपण कार्यक्रम में भी भाग लिया और समीक्षा बैठक के दौरान श्री भारद्वाज ने जेएनएआरडीडीसी के वैज्ञानिकों और अन्य कर्मियों के साथ विस्तार से बातचीत की और सभी से अनुसंधान परियोजनाओं के व्यावसायीकरण पर ध्यान केंद्रित करने का आग्रह किया।

तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन, "मिनकॉन 2022 - खनन, खनिज, धातु" का दूसरा संस्करण 14-16 अक्टूबर 2022 तक नागपुर के चिटनवीस केंद्र में आयोजित किया जा रहा है।

तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन का दूसरा संस्करण, "मिनकॉन 2022 - खनन। खनिज। धातु," 14-16 अक्टूबर 2022 तक नागपुर के चिटनवीस केंद्र में आयोजित किया जा रहा है। इसका सह-आयोजन महाराष्ट्र राज्य खनन निगम लिमिटेड (एमएसएमसी), विदर्भ आर्थिक विकास परिषद (वीईडी) और एमएम एक्टिव साइंस-टेक कम्युनिकेशंस प्राइवेट लिमिटेड द्वारा किया जाता है। लिमिटेड
खनन, खनिज और धातु उद्योग के लिए समर्पित भारत का अग्रणी कार्यक्रम मिनकॉन व्यापार जगत के नेताओं, सीईओ, सलाहकारों, वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों, निर्णय निर्माताओं और व्यापार प्रतिनिधिमंडलों को नेटवर्क बनाने, विचारों को साझा करने, अपनी तकनीक का प्रदर्शन करने के लिए एक मंच प्रदान करेगा। स्थायी व्यावसायिक संबंध बनाएं।
राष्ट्रीय सम्मेलन खनन और प्रसंस्करण क्षेत्रों में निवेश आकर्षित करने, सरकार, हितधारकों और उपयोगकर्ताओं के बीच जुड़ाव के लिए एक मंच प्रदान करने और मूल्य संवर्धन को अधिकतम करने के अवसरों पर विचार-विमर्श करने के लिए भारत के समृद्ध खनिज संसाधनों पर प्रकाश डालेगा। यह व्यावहारिक रूप से भारत के हर क्षेत्र और विदेशों से प्रभावशाली हस्तियों के साथ नेटवर्किंग का एक शानदार अवसर प्रदान करेगा, साथ ही व्यापार को बढ़ावा देने और देश की खानों, खनिजों और धातुओं की वृद्धि और विकास का समर्थन करने में मदद करेगा।
जेएनएआरडीडीसी ने अपने विभिन्न नवीन अनुसंधान एवं विकास उत्पादों और प्रक्रियाओं का प्रदर्शन किया है। माननीय केंद्रीय संसदीय कार्य, कोयला और खान मंत्री श्री प्रल्हाद वेंकटेश जोशी ने जेएनएआरडीडीसी स्टॉल का दौरा किया और वैज्ञानिकों और कर्मचारियों के साथ बातचीत की। श्री जोशी को बॉक्साइट, एल्यूमिना, एल्युमीनियम और विविधीकरण के क्षेत्र में धातु पुनर्चक्रण प्राधिकरण और तीसरे पक्ष के कोयला नमूना विश्लेषण के लिए रेफरी प्रयोगशाला के रूप में जेएनएआरडीडीसी की विभिन्न उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी गई।
यह कॉन्क्लेव विभिन्न हितधारकों के बीच सहयोग स्थापित करने और अपनी शिकायतों को व्यक्त करने के लिए एक आदर्श मंच प्रदान करेगा, जिसका उपयोग भविष्य में नीतियां बनाने के लिए किया जा सकता है।

नाल्को, दमनजोड़ी, ओडिशा के गैर-कार्यकारियों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम 18 से 20 जुलाई 2022 और 12 से 14 अक्टूबर 2022 तक

नाल्को ऑपरेटरों के लिए "एल्यूमिना बनाने की प्रक्रिया" पर प्रशिक्षण कार्यक्रम जेएनएआरडीडीसी में 18 से 20 जुलाई 2022 और 12 से 14 अक्टूबर 2022 तक दो बैचों में सफलतापूर्वक आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में कुल 33 ऑपरेटरों ने भाग लिया और एल्यूमिना बनाने की प्रक्रिया (बॉक्साइट विशेषताएँ, शुष्कीकरण, पाचन, निपटान और धुलाई, बायर प्रक्रिया में वर्षा, उपलब्ध एल्यूमिना और प्रतिक्रियाशील सिलिका निर्धारण, एल्यूमिना प्रौद्योगिकी में प्रगति, विशेष एल्यूमिना) के क्षेत्रों में व्याख्यान दिए गए। , एल्युमिना प्रगलन आदि)। ऑपरेटरों ने अपने 3 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान विभिन्न प्रयोगशालाओं का भी दौरा किया। नाल्को के ऑपरेटरों ने कहा कि प्राप्त सैद्धांतिक ज्ञान निश्चित रूप से उन्हें अपने कर्तव्यों का अधिक कुशलता से निर्वहन करने में मदद करेगा और बदले में संयंत्र में उत्पादकता और गुणवत्ता में सुधार करेगा।

10-14 अक्टूबर 2022 के दौरान आईसीएसओबीए 2022, ग्रीस में जेएनएआरडीडीसी की उपस्थिति

जेएनएआरडीडीसी के निदेशक डॉ. अनुपम अग्निहोत्री ने 40वें अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन और प्रदर्शनी, आईसीएसओबीए 2022 के दौरान "भारतीय एल्युमीनियम क्षेत्र में संसाधन दक्षता और परिपत्र अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए रूपरेखा" पर मुख्य व्याख्यान दिया और भाग लिया। इसका आयोजन बॉक्साइट के अध्ययन के लिए अंतर्राष्ट्रीय समिति द्वारा किया गया था। , एथेंस, ग्रीस में 10-14 अक्टूबर 2022 के दौरान एल्यूमिना और एल्युमीनियम।

जेएनएआरडीडीसी में आईएसओ 17034 जागरूकता प्रशिक्षण

जेएनएआरडीडीसी को स्पार्क ओईएस पर एल्यूमीनियम मिश्र धातुओं के स्पेक्ट्रो-रासायनिक विश्लेषण के लिए उपयोग किए जाने वाले सीआरएम के उत्पादन के लिए संदर्भ सामग्री निर्माता (आरएमपी) के रूप में अपने नए उद्यम की घोषणा करते हुए खुशी हो रही है। किसी भी आरएमपी को आईएसओ 17034 होना चाहिए, आरएमपी के लिए मान्यता जरूरी है और वर्तमान में जेएनएआरडीडीसी मान्यता प्रक्रिया के अंतिम चरण में है। इस संबंध में, कंसल्ट्रेन मैनेजमेंट सर्विसेज (सीएमएस), कोलकाता की सुश्री संचिता भट्टाचार्य ने आईएसओ 17034 के अनुसार गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली आवश्यकताओं के बारे में जागरूकता प्रशिक्षण देने के लिए जेएनएआरडीडीसी का दौरा किया, जिसके अनुसार संदर्भ सामग्री का उत्पादन किया जाएगा। प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान, आईएसओ 17034 में निर्दिष्ट संदर्भ सामग्री उत्पादकों की क्षमता और सुसंगत संचालन के लिए सभी सामान्य आवश्यकताओं पर आरएमपी गतिविधियों में शामिल सभी कर्मियों के साथ चर्चा की गई।

30 सितंबर 2022 को जेएनएआरडीडीसी और आईएसएसएससी के बीच एक समझौता ज्ञापन

श्री सुशीम बनर्जी, सीईओ और भारतीय लौह एवं इस्पात क्षेत्र कौशल परिषद (आईआईएसएसएससी) के वरिष्ठ कार्यकारी डॉ. ध्रुबा भादुड़ी ने "एल्यूमीनियम और अन्य अलौह धातुओं के लिए कौशल अंतर अध्ययन" के संबंध में चर्चा के लिए 9 सितंबर 2022 को जेएनएआरडीडीसी का दौरा किया। इसके बाद जेएनएआरडीडीसी और IISSSC ने अलौह धातु क्षेत्र में तकनीकी विकास से संबंधित कई व्यवसायों में रोजगारपरक कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए सहयोग स्थापित करने के लिए 30 सितंबर 2022 को एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए। जेएनएआरडीडीसी अलौह धातु क्षेत्रों में संचालन प्रबंधन, गुणवत्ता, विश्वसनीयता और रखरखाव, एर्गोनॉमिक्स और सुरक्षा, रसद और आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन, उत्पादकता वृद्धि अध्ययन, उद्योग 4.0 नौकरी भूमिकाएं और कौशल अंतर विश्लेषण अध्ययन के क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्रदान करेगा। एल्यूमीनियम, तांबा, जस्ता और सीसा। यह पहल "प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना" (पीएमकेवीवाई) को बढ़ावा देगी और बड़ी संख्या में भारतीय युवाओं को उद्योग-प्रासंगिक कौशल प्रशिक्षण लेने में सक्षम बनाएगी।

18 से 25 सितंबर 2022 के दौरान कोयला और जैविक पेट्रोलॉजी के लिए अंतर्राष्ट्रीय समिति (ICCP-2022) की 73वीं वार्षिक बैठक और संगोष्ठी

जेएनएआरडीडीसी के अधिकारियों ने नई और उभरती तकनीकों से परिचित होने और आसपास के कोयला पेट्रोलॉजी विशेषज्ञों के साथ बातचीत करने के लिए 18 से 25 सितंबर 2022 के दौरान नई दिल्ली में कोयला और जैविक पेट्रोलॉजी के लिए अंतर्राष्ट्रीय समिति (आईसीसीपी-2022) की 73वीं वार्षिक बैठक और संगोष्ठी में भाग लिया। ग्लोब जो इस सम्मेलन में भाग लेते हैं। संगोष्ठी की थीम, "सतत विकास और ऊर्जा सुरक्षा के लिए कोयले के उपयोग पर हालिया रुझान" के साथ, बातचीत इस्पात और बिजली उद्योगों के लिए कोयले के उपयोग से जुड़े मौजूदा मुद्दों पर केंद्रित थी।

धातु पुनर्चक्रण प्राधिकरण (जेएनएआरडीडीसी), खान मंत्रालय द्वारा 17 सितंबर 2022 को अलौह धातु पुनर्चक्रण पर एक दिवसीय विचार-मंथन सत्र

धातु पुनर्चक्रण प्राधिकरण (जेएनएआरडीडीसी), खान मंत्रालय ने एनएफ धातु पुनर्चक्रण के सभी हितधारकों को एक साथ लाने के लिए 17 सितंबर 2022 को कोर्टयार्ड बाय मैरियट, रायपुर (सीजी) में "अलौह धातु पुनर्चक्रण पर एक दिवसीय विचार-मंथन सत्र" का आयोजन किया। सार्थक बातचीत, विचारों के आदान-प्रदान आदि के लिए साझा मंच। यह कार्यक्रम अलौह धातु उद्योग को टिकाऊ बनाने और हितधारकों को अवसर प्रदान करने के लिए संसाधन दक्षता और परिपत्र अर्थव्यवस्था पर सरकार के एजेंडे के बारे में जागरूकता फैलाकर स्क्रैप रीसाइक्लिंग को बढ़ावा देने की पहल का एक हिस्सा है। उद्योग अपने विचार प्रस्तुत करें। MoEF&CC के श्री वेद प्रकाश मिश्रा मुख्य अतिथि थे और अपने संबोधन के दौरान उन्होंने सर्कुलर इकोनॉमी और एल्यूमीनियम रीसाइक्लिंग के महत्व पर प्रकाश डाला। एमआरएआई (भारतीय सामग्री पुनर्चक्रण प्राधिकरण), भारतीय मानक ब्यूरो, एएसआई और अग्रणी एल्यूमीनियम, तांबा, सीसा और जस्ता रीसाइक्लिंग कंपनियों के कई प्रतिनिधियों ने भाग लिया और इस उद्योग की वर्तमान स्थिति और भविष्य पर गहन चर्चा की। इस कार्यक्रम में केंद्र और राज्य सरकार दोनों के साथ-साथ अलौह धातु रीसाइक्लिंग उद्योग और उद्योग संघों के प्रतिनिधियों ने विशिष्ट विचार-विमर्श किया। इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान रायपुर के ओईएम, उपकरण आपूर्तिकर्ताओं, सेवा प्रदाताओं, छात्रों और संकाय की भी भागीदारी देखी गई। श्री आर एन चौहान, विभागाध्यक्ष, डाउनस्ट्रीम ने धातु पुनर्चक्रण प्राधिकरण, जेएनएआरडीडीसी की स्थापना और इसकी प्रस्तावित कार्य योजनाओं के बारे में जानकारी दी। जेएनएआरडीडीसी के निदेशक डॉ. अनुपम अग्निहोत्री ने राष्ट्रीय अलौह धातु स्क्रैप रीसाइक्लिंग ढांचे के बारे में संक्षेप में प्रस्तुत किया जिसमें विभिन्न हितधारकों की जिम्मेदारियां, मानकीकरण, डेटाबैंक, रीसाइक्लिंग क्षेत्र, शहरी खदानें आदि शामिल हैं।

जेएनएआरडीडीसी द्वारा सह-आयोजित 10वां आईबीएएएस सम्मेलन 14 से 17 सितंबर 2022 के दौरान रायपुर में आयोजित किया गया था।

जेएनएआरडीडीसी द्वारा सह-आयोजित 10वां आईबीएएएस सम्मेलन 14 से 17 सितंबर 2022 के दौरान रायपुर में आयोजित किया गया था और इसका उद्घाटन हिंडाल्को इंडस्ट्रीज के विनिर्माण उत्कृष्टता केंद्र के अध्यक्ष और प्रमुख श्री विभु प्रसाद मिश्रा ने किया था। उद्घाटन के दौरान जेएनएआरडीडीसी के निदेशक डॉ. अनुपम अग्निहोत्री, एल्युमीनियम स्टीवर्डशिप इनिशिएटिव (एएसआई) की पार्टनरशिप निदेशक सुश्री मैरीके वैन डेर मिजन और इंटरनेशनल एल्युमीनियम इंस्टीट्यूट (आईएआई), लंदन की पर्यावरण कार्यक्रम प्रबंधक सुश्री लावण्या कुगस्वरन भी अतिथि के रूप में उपस्थित थे। सम्मान। इस सम्मेलन में बॉक्साइट, एल्यूमिना और एल्युमीनियम उद्योग, अनुसंधान संगठनों, प्रौद्योगिकी/उपकरण आपूर्तिकर्ताओं, सेवा प्रदाताओं और शैक्षणिक संस्थानों का प्रतिनिधित्व करने वाले लगभग 200 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। सम्मेलन के संयोजक डॉ. अशोक नंदी ने एल्युमीनियम उद्योग में आईबीएएएस की यात्रा, विकास और योगदान पर प्रकाश डाला। 3 दिवसीय सम्मेलन बॉक्साइट, गैर-धातुकर्म बॉक्साइट से संबंधित विषयों को कवर करने वाले 3 समानांतर सत्रों में तकनीकी पत्रों की एक श्रृंखला के लिए समर्पित था। -एल्यूमिना और लाल-मिट्टी, एल्यूमिना और एल्यूमीनियम गलाने और डाउनस्ट्रीम। प्रमुख प्राथमिक एल्युमीनियम उत्पादकों, अनुसंधान एवं विकास संस्थानों और प्रौद्योगिकी और उपकरण आपूर्तिकर्ताओं के इंजीनियरों/वैज्ञानिकों द्वारा लगभग 50 उच्च गुणवत्ता वाले तकनीकी पेपर प्रस्तुत किए गए। इस सम्मेलन में एक आवश्यक अतिरिक्त 16 सितंबर को एल्युमीनियम स्टीवर्डशिप इनिशिएटिव (एएसआई) की कार्यशाला है, जो भारत में पहली बार आयोजित की गई थी। भारत के प्राथमिक और द्वितीयक एल्युमीनियम उत्पादकों के कई इच्छुक प्रतिनिधियों ने एएसआई प्रमाणन कार्यक्रम और जिम्मेदार एल्युमीनियम उत्पादकों के लिए लाभों के बारे में विस्तार से चर्चा करने के लिए इस कार्यशाला में भाग लिया। जेएनएआरडीडीसी की टीम द्वारा प्रस्तुत "एल्यूमीनियम फॉयल से 3एन शुद्ध अल्फा नैनो-एल्यूमिना का संश्लेषण" नामक एक तकनीकी पेपर को गैर-धातुकर्म बॉक्साइट-एल्यूमिना और लाल-मिट्टी पर सत्र के लिए सर्वश्रेष्ठ पेपर के रूप में चुना गया था।

एनएबीएल 17025 प्रशिक्षण 7 से 10 सितंबर 2022 तक

परीक्षण के लिए प्रयोगशाला प्रथाओं के बारे में गहन जानकारी प्रदान करने के प्रयास में जेएनएआरडीडीसी के कर्मचारियों को डॉ. केएन उडपा द्वारा 7 से 10 सितंबर 2022 तक 1SO/IEC 17025: 2017 पर प्रशिक्षण दिया गया था। डॉ. के.एन. उडपा टाटा स्टील के पूर्व कर्मचारी और एनएबीएल मूल्यांकनकर्ता हैं, जिन्हें रासायनिक विश्लेषण और कोयला और अन्य ठोस ईंधन परीक्षण के क्षेत्र में व्यापक समझ है। JNARDDC ने कोयला, यांत्रिक और रासायनिक विषयों को शामिल करने के लिए मान्यता के दायरे के विस्तार के लिए NABL 1SO/IEC 17025: 2017 द्वारा आवश्यक मूल्यांकन और मूल्यांकन किया है।

जेएनएआरडीडीसी ने 2 सितंबर, 2022 को गामा रे शील्डिंग सामग्री के लिए सीएसआईआर-एएमपीआरआई, भोपाल के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

जेएनएआरडीडीसी और भोपाल में सीएसआईआर-उन्नत सामग्री और प्रक्रिया अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर-एएमपीआरआई) ने एल्यूमिना उद्योग के कचरे का उपयोग करके गैर विषैले, सीसा रहित गामा किरण परिरक्षण सामग्री के विकास में सहयोग के लिए 2 सितंबर 2022 को एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। लाल मिट्टी)। जेएनएआरडीडीसी लाल मिट्टी का स्रोत बनाएगा और इसके भौतिक-रासायनिक गुणों का विश्लेषण करेगा, और सीएसआईआर-एएमपीआरआई इस खतरनाक उप-उत्पाद को हरे और आर्थिक रूप से व्यवहार्य गामा किरण परिरक्षण ईंटों में परिवर्तित करेगा। समझौता ज्ञापन पर सीएसआईआर-एएमपीआरआई के निदेशक डॉ. अवनीश कुमार श्रीवास्तव और जेएनएआरडीडीसी, नागपुर के निदेशक डॉ. अनुपम अग्निहोत्री और दोनों संगठनों के अधिकारियों की उपस्थिति में हस्ताक्षर किए गए। इस अवसर पर उपस्थित सीएसआईआर-राष्ट्रीय पर्यावरण इंजीनियरिंग अनुसंधान संस्थान, नागपुर के निदेशक डॉ. अतुल नारायण वैद्य ने कहा कि परियोजना के परिणाम से पर्यावरण और समाज से जुड़ी समस्याओं का समाधान होने की उम्मीद है, जिससे एक चक्रीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा।

JNARDDC celebrates Azadi Ka Amrit Mahotsav iconic week from 11th - 17th July, 2022

Jawaharlal Nehru Aluminium Research Development & Design Centre (JNARDDC), Nagpur undertook a mass plantation program as a part of the Azadi Ka Amrit Mahotsav (AKAM) iconic week celebration of Ministry of Mines. AKAM is an initiative of the Government to celebrate and commemorate 75 years of independence and the glorious history of it's people, culture and achievements to enable Prime Minister Narendra Modi's vision of activating India 2.0, fuelled by the spirit of Aatmanirbhar Bharat. The official journey of AKAM commenced on 12th March 2021 and will end post a year on 15th August 2023. All the organizations of Ministry of Mines have undertaken different events during this Iconic week from 11th to 17th July. The iconic week mass plantation program of JNARDDC on 15th July 2022 was inaugurated at the hands of Chief Guest - Ms Nirupama Kotru, IRS, Joint Secretary & Financial Advisor, Ministry of Coal & Mines. She also inaugurated the cement road of JNARDDC and new facilities of coal sample preparation lab. She appreciated the technical assignments being undertaken by JNARDDC for NITI Aayog, Ministry of Mines, aluminium industry, power sector (Bureau of Energy Efficiency), coal sector as the referee lab for third party coal sampling and as Metal Recycling Authority (MRA). She applauded the efforts of JNARDDC and the Social forestry division in making JNARDDC campus evergreen with regular plantation programs. Dr Anupam Agnihotri, Director, JNARDDC stated that JNARDDC would scale new heights in scientific research activities and surpass its revenue generation targets. Mr Laxmikant M Padole, Director, Neem Research & Technology Development Centre, Kalmeshwar, Nagpur showcased a brief film about the benefits of organic farming and mass plantation program for sustaining the environment for the future generations. All the employees and staff planted around 150 saplings in JNARDDC campus. The program was compered by Ms R Vishakha, Admin Officer and vote of thanks was proposed by Mr R Srinivasan, Sr Admin Officer.

अलौह धातुओं पर 26वां अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (ICNFM-2022) 8-9 जुलाई 2022 को होटल रेडिसन ब्लू, नागपुर में आयोजित किया गया था।

अलौह धातुओं पर 26वां अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (ICNFM-2022) 8-9 जुलाई 2022 को होटल रेडिसन ब्लू, नागपुर में आयोजित किया गया था। सम्मेलन का आयोजन कॉर्पोरेट मॉनिटर द्वारा जवाहरलाल नेहरू एल्युमीनियम अनुसंधान विकास और डिजाइन केंद्र (JNARDDC) के सहयोग से किया गया था। मटेरियल रीसाइक्लिंग एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एमआरएआई), एल्युमीनियम एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एएआई) और खान मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा समर्थित। सम्मेलन का उद्घाटन डॉ. अनुपम अग्निहोत्री, निदेशक जेएनएआरडीडीसी, श्री नवीन शर्मा, निदेशक एमआरएआई, श्री विभु मिश्रा, प्रमुख (एमसीओई), हिंडाल्को, श्री रोहित पाठक, सीईओ-कॉपर बिजनेस, हिंडाल्को, श्री अरुण मिश्रा, सीईओ हिंदुस्तान जिंक और श्री ने किया। लीलाधर पाटीदार, सीओओ, स्टरलाइट कॉपर। डॉ. अग्निहोत्री ने अपने उद्घाटन भाषण में भारतीय अर्थव्यवस्था में अलौह क्षेत्र के योगदान पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने राष्ट्रीय अलौह धातु स्क्रैप रीसाइक्लिंग फ्रेमवर्क, 2020 में निर्धारित अनुसार नामांकित धातु रीसाइक्लिंग प्राधिकरण (एमआरए) के रूप में जेएनएआरडीडीसी की भूमिका पर प्रकाश डाला। एमआरएआई के निदेशक श्री नवीन शर्मा ने धातु उद्योग के त्वरित विकास के लिए रीसाइक्लिंग उद्योग के योगदान पर जोर दिया। . अलौह उद्योगों के प्रमुख अलौह क्षेत्र के सतत विकास के लिए प्राथमिक और माध्यमिक दोनों क्षेत्रों के सामंजस्यपूर्ण सह-अस्तित्व की आशा करते हैं। वैज्ञानिक उत्कृष्टता पुरस्कार डॉ. बी.के. को दिए गए। सत्पथी (विजिटिंग फैकल्टी, आईआईटी भुवनेश्वर), डॉ. उपेन्द्र सिंह (प्रमुख, विश्लेषणात्मक, जेएनएआरडीडीसी), श्री रोहित पाठक (हिंडाल्को) और डॉ. भाविन देसाई (आदित्य बिड़ला)। सम्मेलन में लगभग 35 तकनीकी पेपर, 5 अंतर्राष्ट्रीय तकनीकी पेपर और लगभग 14 पोस्टर प्रस्तुत किये जायेंगे। सम्मेलन में देश-विदेश से 125 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती आर विशाखा, प्रशासनिक अधिकारी, जेएनएआरडीडीसी द्वारा किया गया और धन्यवाद ज्ञापन श्री आर.एन. द्वारा किया गया। चौहान, विभागाध्यक्ष (डीएसपी), जेएनएआरडीडीसी

जेएनएआरडीडीसी ने 21 जून 2022 को 8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया

खान मंत्रालय के एक स्वायत्त निकाय, जवाहरलाल नेहरू एल्युमीनियम अनुसंधान विकास और डिजाइन केंद्र, जेएनएआरडीडीसी, नागपुर ने 21 जून 2022 को 8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया।

जेएनएआरडीडीसी ने 25 मई 2022 को 33वां स्थापना दिवस मनाया

खान मंत्रालय के एक स्वायत्त निकाय, जवाहरलाल नेहरू एल्युमीनियम अनुसंधान विकास और डिजाइन केंद्र, जेएनएआरडीडीसी, नागपुर ने 25 मई 2022 को अपना 33वां स्थापना दिवस मनाया। कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य अतिथि, डॉ. अशोक कुमार सिंह, मुख्य वैज्ञानिक और एचओआरजी, सीएसआईआर, सीआईएमएफआर ने किया। , धनबाद, सम्मानित अतिथि श्री अनिल कुमार, डीजीएम (एफएम), एनटीपीसी, नोएडा और डॉ. अनुपम अग्निहोत्री, निदेशक, जेएनएआरडीडीसी। प्रसिद्ध वैज्ञानिक और सीएसआईआर प्रौद्योगिकी पुरस्कारों सहित कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों के प्राप्तकर्ता डॉ. अशोक कुमार सिंह ने पिछले 33 वर्षों में इसकी उपलब्धियों के लिए जेएनएआरडीडीसी की सराहना की। उन्होंने जेएनएआरडीडीसी को तीसरे पक्ष के नमूने के लिए शीर्ष कोयला रेफरी प्रयोगशाला में से एक होने के लिए भी बधाई दी। इसी प्रकार, एनटीपीसी के श्री अनिल कुमार ने ईंधन प्रबंधन के बारे में अपने अनुभव साझा किए और दर्शकों को भारत में कोयले की मौजूदा कमी की स्थिति के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जेएनएआरडीडीसी अधिक संख्या में लंबित नमूनों की जांच कर महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। जेएनएआरडीडीसी के निदेशक ने पेटेंट, प्रकाशन और परियोजनाओं में उनकी तकनीकी उपलब्धियों के लिए कर्मचारियों को सम्मानित किया। श्री आर.एन. चौहान, वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक, डॉ. उपेन्द्र सिंह, वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक और श्रीमती ज्योति पेंदाम, कनिष्ठ वैज्ञानिक को क्रमशः 2019-20, 2020-21 और 2021-22 के लिए वर्ष के कर्मचारी से सम्मानित किया गया। उद्घाटन सत्र के बाद मेटल रीसाइक्लिंग एसोसिएशन ऑफ इंडियन (एमआरएआई) के निदेशकों, एल्युमीनियम पर डॉ किशोर राजपुरोहित, लीड पर श्री नवीन शर्मा और कॉपर पर श्री जीन्स शाह द्वारा "अलौह धातु क्षेत्र में संसाधन दक्षता" पर एक पैनल चर्चा हुई। डॉ. अनुपम अग्निहोत्री ने पुनर्चक्रित उत्पादों के लाभों पर प्रकाश डाला। गणमान्य व्यक्तियों ने वृक्षारोपण कार्यक्रम में भाग लिया। इस कार्यक्रम में आईबीएम, जीएसआई, वीएनआईटी, सीआईएमएफआर, एमआरएसएसी, एएमडी, बीएमपीएल आदि के पूर्व कर्मचारियों और प्रतिनिधियों ने भाग लिया। श्री आर एन चौहान, एचओडी (डाउनस्ट्रीम) इस कार्यक्रम के समग्र समन्वयक थे और संचालन श्रीमती द्वारा किया गया था। .आर विशाखा, प्रशासन अधिकारी।

बॉक्साइट माइनर मीट (बीएमएम-2021)-29 सितंबर, 2021 को वर्चुअल आयोजित किया गया

बॉक्साइट माइनर मीट (बीएमएम-2021)-29 सितंबर, 2021 को वर्चुअल आयोजित किया गया

अलौह धातुओं पर 25वां अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन-2021 (ICNFM-2021)

पर्यावरण-अनुकूल प्रौद्योगिकियों को बढ़ावा देने के लिए 3-4 सितंबर 2021 को नई दिल्ली में जेएनएआरडीडीसी, एल्युमीनियम एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एएआई) और मटेरियल रीसाइक्लिंग अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एमआरएआई) के सहयोग से कॉरपोरेट मॉनिटर द्वारा अलौह धातुओं पर 25वां अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन-2021 आयोजित किया गया था। प्राथमिक एवं द्वितीयक धातु निष्कर्षण
इस कार्यक्रम का उद्घाटन खान मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव श्री संजय लोहिया (आईएएस) ने गैर-लौह धातुओं से निपटने वाले सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के संगठन के प्रमुखों की उपस्थिति में किया। कार्यक्रम के दौरान जेएनएआरडीडीसी द्वारा चार शोध पत्र भी प्रस्तुत किये गये।
इस आयोजन ने भारतीय अलौह उद्योग को अंतर्राष्ट्रीय धातु जगत के साथ लाने के लिए एक उत्कृष्ट मंच भी प्रदान किया और समग्र विकास को बढ़ावा देने के लिए सर्वोत्तम प्रथाओं, बेंचमार्क, तकनीकी प्रगति, नवाचारों और सामूहिक सशक्तिकरण के अवसरों पर चर्चा करने का अवसर प्रदान किया। अलौह उद्योग, ये सभी "आत्मनिर्भर भारत" के लक्ष्य को प्रेरित करने में परिणत होंगे।
सम्मेलन में गैर-लौह धातुओं से संबंधित नाल्को, हिंदुस्तान कॉपर, आईआईटी बीएचयू, सीएसआईआर-एनएमएल, आदित्य बिड़ला समूह, वेदांता समूह ने भाग लिया।

30 अप्रैल 2021 को ऑनलाइन एक्सट्रूडर्स मीट

“National Extruders Meet” organised on 30th April 2021 received overwhelming response from the stakeholders. The event witnessed participation of around 80 attendees and experts including 35 extruders, 15 equipment suppliers, 201 researchers and academicians, 5 billet casters and others from all over the country.

जेएनएआरडीडीसी के निदेशक डॉ. अनुपम अग्निहोत्री ने स्वागत भाषण दिया और कार्यक्रम का उद्घाटन भी किया। उन्होंने भवन निर्माण, ऑटोमोबाइल और देश की बढ़ती जरूरतों के लिए रणनीतिक अनुप्रयोगों के लिए नए एल्यूमीनियम मिश्र धातु और एक्सट्रूडेड प्रोफाइल विकसित करने की आवश्यकता पर जोर दिया। अन्य विशेषज्ञों ने गुणवत्ता और उत्पादकता, भारत में एल्यूमीनियम एक्सट्रूज़न की उभरती जरूरतों, एयरोस्पेस अनुप्रयोगों के लिए एल्यूमीनियम एक्सट्रूज़न के विकास और आवश्यकताओं, नई ऊर्जा बचत या हरित प्रौद्योगिकियों को प्राप्त करने के लिए सर्वोत्तम प्रथाओं पर जोर दिया।

डाउनस्ट्रीम डिवीजन के प्रमुख आर एन चौहान और एक्सट्रूज़न सुविधा प्रभारी वीएनएसयू विश्वनाथ अम्मू ने संयुक्त रूप से ऑनलाइन बैठक का संचालन किया। जेएनएआरडीडीसी के डाउनस्ट्रीम डिवीजन के वैज्ञानिक डॉ. पी मोंडी, डॉ. अनस, आर अनिल कुमार और आई राजू ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का समन्वय किया और स्टाफ सदस्य प्रवीण वाघमारे, सुमन मुखर्जी, दिलीप धनपाले प्रभाकर हेडाउ, योगेश धुवाधप्पर ने एक्सट्रूज़न प्रेस के लाइव प्रदर्शन का समन्वय किया।

JNARDDC द्वारा 21.06.2021 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया

जेएनएआरडीडीसी द्वारा 21.06.2021 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया, जिसमें कर्मचारी 14 जून 2021 से प्रतिदिन सुबह 7.00 बजे से जनार्दनस्वामी योगाभ्यासी मंडल, नागपुर के लाइव ऑनलाइन योग प्रशिक्षण अनुक्रम में शामिल हुए। सामाजिक दूरी के 19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए, कई अन्य लोग योग का अभ्यास करने और इसके लाभों का प्रचार करने के लिए अपने परिवार के साथ अपने घरों से वस्तुतः शामिल हुए। योग अभ्यास का मूल 'अभ्यास' है - जिस दिशा में आप जाना चाहते हैं उसमें लगातार प्रयास करना।

अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी अलौह खनिज और धातु (आई.सी.एन.एफ.एम.एम.-2020) वेबिनार

अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी अलौह खनिज और धातु ( आई.सी.एन.एफ.एम.एम -2020) वेबिनार श्रृंखला जे.एन.ए.आर.डी.डी.सी और कॉर्पोरेट मॉनिटर द्वारा सितंबर से दिसंबर 2020 तक आयोजित की गई थी।

अंतर्राष्ट्रीय बॉक्साइट, एलुमिना और एल्युमिनियम सोसाइटी (आई.बी.ए.ए.एस 2020) 4-6 नवंबर 2020 तक वेबिनार।

आई.बी.ए.ए.एस के सहयोग से जे.एन.ए.आर.डी.डी.सी, नागपुर ने 4-6 नवंबर 2020 से अंतर्राष्ट्रीय बॉक्साइट, एल्युमिना और एल्युमिनियम सोसाइटी (आई.बी.ए.ए.एस -2020) वेबिनार का सफलतापूर्वक आयोजन किया। दुनिया भर के 400 से अधिक प्रतिभागियों ने वेबिनार के दौरान अपने शोध विचारों को साझा किया और साझा किया। जे.एन.ए.आर.डी.डी.सी ने वेबिनार को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए सर्वश्रेष्ठ आईटी अवसंरचना प्रदान की।

ICSOBA 16-18 नवंबर 2020 का 38 वां अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन और प्रदर्शनी

JNARDDC के वैज्ञानिकों ने ICSOBA के 38 वें अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन और प्रदर्शनी में कागजात प्रस्तुत किए जो 16 से 18 नवंबर 2020 तक आभासी मंच पर आयोजित किए जाएंगे।

20 वें पी.ई.आर.सी की बैठक जे.एन.ए.आर.डी.डी.सी में (23-25 नवंबर 2020) पर वीसी के माध्यम से

खान मंत्रालय ने वीसी के माध्यम से 23-25 नवंबर 2020 के दौरान खान मंत्रालय के संयुक्त सचिव, श्री सतेंद्र सिंह की अध्यक्षता में 20 वीं पी.ई.आर.सी (परियोजना मूल्यांकन और समीक्षा समिति) की सफलतापूर्वक बैठक आयोजित की। जे.एन.ए.आर.डी.डी.सी ने 3 वर्चुअल मीटिंग रूम के आयोजन से मेजबान भूमिका निभाई
  • खनन
  • खनिज प्रसंस्करण
  • धातुकर्म
जे.एन.ए.आर.डी.डी.सी के उत्कृष्ट आईटी बुनियादी ढांचे ने पूरे भारत से सभी को जोड़कर लगभग 140 परियोजनाओं की सुचारू समीक्षा के लिए आदर्श मंच प्रदान किया। इस वर्ष की एक विशेष विशेषता यह है कि इस योजना के लिए समर्पित एक नया पोर्टल, अर्थात। सत्यभामा पोर्टल (research.mines.gov.in), माननीय खान मंत्री द्वारा शुरू किया गया था और इस पोर्टल के माध्यम से नए परियोजना प्रस्ताव प्राप्त हुए थे। पोर्टल पर कुल 383 परियोजना प्रस्ताव ऑनलाइन प्राप्त हुए। स्क्रीनिंग के बाद, निम्नलिखित पांच क्षेत्रों को कवर करने वाले 102 प्रस्तावों को दूसरे चरण के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया।
  • जियोसाइंस एंड एक्सप्लोरेशन
  • खनन
  • कचरे से खनिज प्रसंस्करण और वसूली
  • धातु निष्कर्षण (धातुकर्म प्रक्रियाएं)
  • मिश्र, विशेष सामग्री और उत्पाद
इन 102 परियोजना प्रस्तावों को संबंधित प्रधान जांचकर्ताओं (पीआई) द्वारा प्रस्तुत किया गया था और 23-25 नवंबर 2020 को आयोजित वीसी की बैठक के दौरान समिति द्वारा मूल्यांकन किया गया था। पी.ई.आर.सी द्वारा अनुशंसित परियोजनाओं को अंतिम अनुमोदन के लिए एस.एस.ए.जी के समक्ष रखा जाएगा।

इंटरएक्टिव इंडो-यूरोपियन मीट "एल्युमिनियम उद्योग में संसाधन दक्षता लाल मिट्टी (बॉक्साइट अवशेष) के प्रभावी उपयोग पर ध्यान केंद्रित करने के साथ" सितंबर 2019, नई दिल्ली

पर्यावरण वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, जे.एन.ए.आर.डी.डी.सी , यूरोपीय संघ-संसाधन दक्षता पहलऔर यूरोपीय संघ के सहयोग से खान मंत्रालय ने एल्यूमीनियम में "संसाधन दक्षता" पर एक इंटरैक्टिव इंडो-यूरोपियन मीट का आयोजन किया 19 सितंबर, 2019 को होटल ताज मानसिंह, नई दिल्ली में रेड मड (बॉक्साइट अवशेष) के प्रभावी उपयोग पर ध्यान देने वाला उद्योग। इस बैठक का उद्घाटन उद्योग प्रमुखों की उपस्थिति में संयुक्त सचिव (खान) श्री अनिल कुमार नायक और ईयू-आरईआई के टीम लीडर डॉ. डिटेर मुटज़ ने किया। यूरोपीय संघ के विशेषज्ञों के प्रतिनिधिमंडल ने इस क्षेत्र में वैश्विक और यूरोपीय संघ के विकास के बारे में और विशेष रूप से चल रहे क्षितिज 2020 कार्यक्रम के बारे में प्रबोधन किया, जिसके तहत तीन प्रमुख परियोजनाएं (एंस्योर, एटलएएल और एससीएल), बॉक्सिंग अवशेषों (लाल मिट्टी) के थोक उपयोग के उद्देश्य से संचालित हैं। प्रतिनिधिमंडल भारत के लिए यूरोपीय संघ के संसाधन दक्षता पहल (ईयू-आरईआई) का हिस्सा है, जिसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय मानकों और व्यापार में सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाने के माध्यम से संयुक्त राष्ट्र वैश्विक सतत उपभोग और उत्पादन (एससीपी) एजेंडा के कार्यान्वयन में भारत का समर्थन करना है। संसाधन दक्षता और प्राकृतिक संसाधनों के कुशल और स्थायी उपयोग को बढ़ावा देना। यूरोपीय परिप्रेक्ष्य यूरोपीय संघ के विशेषज्ञों द्वारा आगे रखा गया था –किटी तेस्मेलिस, अंतर्राष्ट्रीय एल्यूमीनियम संस्थान(IAI); जॉर्ज बेन वोल्गी, हंगरी; श्री उगो मिरती, आईटीआरबी समूह; श्री कैस्पर वैन डेर आइजक, एसएनटीईएफ, नॉर्वे; डॉ. पापादिमित्रिउ कोन्स्टेंटिनिया, ग्रीस और डॉ। डाइटर मुत्ज़, यूरोपीय संघ-आरईआई.

एल्युमिनियम (आर.इ.ए.एल.) में संसाधन दक्षता, नवंबर 2019, भुवनेश्वर

एल्युमिनियम एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एएआई) के सहयोग से मिनिस्ट्री ऑफ माइंस एंड एनआईटीआईयोग के तत्वावधान में जे.एन.ए.आर.डी.डी.सी,द्वारा भुवनेश्वर में 21 से 23 नवंबर, 2019 को एल्युमीनियम (रियल) में संसाधन दक्षता पर दो दिवसीय क्षमता निर्माण कार्यक्रम आयोजित किया गया। ), मैटीरियल रिसाइक्लिंग एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एम.आर.ए.आई) और एल्युमीनियम सेकेंडरी मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन (ए एस एम ए)। श्री रतन पी वटल, सचिव, प्रधान मंत्री (ईएसी-पीएम) के आर्थिक सलाहकार परिषद, भारत सरकार ने कार्यक्रम का उद्घाटन डॉ। बीएन सत्पथी (वरिष्ठ सलाहकार, पीएसए का कार्यालय, भारत सरकार का कार्यालय) और प्राथमिक / माध्यमिक एल्युमीनियम उद्योग के अधिकारियों और मंत्रालय से किया। खान। कार्यक्रम के दौरान, प्राथमिक और द्वितीयक एल्यूमीनियम उत्पादन में रियलकी स्थिति पर विभिन्न विचार-विमर्श हुए, वैश्विक और घरेलू दोनों तरह के औद्योगिक अपशिष्टों के उपयोग के लिए उपलब्ध वर्तमान स्थिति और तकनीक जैसे सकल, खर्च किए गए पॉट लाइनिंग (एस पी एल) और बॉक्साइट अवशेष (लाल मिट्टी)। बाजारों। इस आयोजन में खान मंत्रालय, ईएसी-पीएम और प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार (ओ / ओपी.एस.ए), भारत सरकार, एन.आई.टी.आईआयोग, नलको, हिंडाल्को, वेदांत समूह, ओडिशा एस पी सी बी, बी.आई.एस, विभिन्न माध्यमिक एल्यूमीनियम जैसे नियामक निकायों के 150 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया। एम.आर.ए.आई,ए एस एम ए, ऑल इंडिया नॉन-फेरस मेटल एक्सिम एसोसिएशन (ए एन एम ए) और फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया एल्युमीनियम यूटेंसिल मैन्युफैक्चरर्स (फाइऔं) से जुड़े निर्माता और निर्माता।
Top